Grain kept in cooperatives is not filled with water, no one is aware

चित्रकूट- जिले में सहकारी समितियों के जिम्मेदार अधिकारियों की मनमानी खूब देखने को मिल रही है जहां पर सहकारी समितियों में रखा अनाज पानी की भेंट चढ़ा रहा है लेकिन जिम्मेदार अधिकारी कोई ध्यान नहीं दे रहे हैं जिसके कारण हजारों बोरी अनाज बारिश में भीग रहा है क्रय प्रभारी के सूचना देने के बावजूद भी जिम्मेदार अधिकारी कोई रुचि नहीं ले रहे हैं वही ठेकेदार अपनी मनमानी करते हुए नजर आ रहा है जिसके कारण यह अनाज भीग रहा है l

रामनगर सहकारी समिति में गेहूं खरीद केंद्र में लगभग 3000 बोरी गेहूं सहकारी समिति के बाहर रखा हुआ है जो बारिश में भीग रहा है ठेकेदार द्वारा यह अनाज नहीं उठाए जाने के कारण किसान भी खासा परेशान नजर आ रहे क्योंकि किसानों के गेहूं की खरीद नहीं हो पा रही हैं सहकारी समिति में जगह नहीं होने के कारण यह परेशानी आ रही है वही क्रय प्रभारी लाल बहादुर यादव ने बताया कि जिम्मेदार अधिकारियों से इस बारे में अवगत कराया गया लेकिन उनके द्वारा कोई ध्यान नहीं दिया गया जिसके कारण लगभग 3000 बोरी गेहूं पानी में भीग रहा है ठेकेदार से जब बात की जाती है वह गेहूं उठाने की बात करता है लेकिन उठाता नहीं है l

इस समय तीन-चार दिनों से लगातार बारिश होने के चलते यह अनाज पानी में भीग रहा है लेकिन ठेकेदार बच्चा पांडे द्वारा खूब मनमानी की जा रही है जिसके कारण ठेकेदार की लापरवाही के चलते हजारों बोरी गेहूं बर्बाद होने की कगार पर है जिसके कारण काफी नुकसान देखने को मिल रहा है पानी में भीग जाने के कारण इन बोरियों में रखे गेहूं के बीज अंकुरित होने लगे हैं जिसके कारण पूरा का पूरा अनाज बर्बादी की कगार पर चला जाएगा अब सोचने वाली बात यह है कि जिम्मेदार अधिकारियों द्वारा इतनी लापरवाही क्यों बरती जा रही है व गेहूं क्यों नहीं उठाया जा रहा है l
यह एक बड़ा सवाल है l

ओम प्रकाश की खास रिपोर्ट


Monika

By Monika

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *