Mumbai: Action taken against ,passengers traveling by lokal train in 60 days

mumbai में corona के मामलों को बढ़ता देख रेलवे ने सिर्फ उन्हीं लोगों को यात्रा करने की इजाजत दी है, जो अत्यावश्यक सेवा से जुड़े हुए हैं. फिर भी कई लोग हैं जो बिना किसी डर के बिना टिकट या फिर फर्जी दस्तावेज बनाकर ट्रेन में यात्रा कर रहे हैं. मुंबई के मध्य रेलवे के mumbai division ने इसी तरह के यात्रियों पर कार्रवाई में काफी तेजी लाई है और दो महीने में लगभग 75 हजार लोगों के खिलाफ कार्रवाई की है. इस कार्रवाई में रेलवे ने करोड़ो रुपये के फाइन भी वसूले हैं. रेलवे के आधिकारिक आंकड़ों की मानें तो 808 ऐसे यात्री पकड़े गए जो लोग फर्जी आइडेंटिटी card बनाकर रेलवे में यात्रा कर रहे थे. ऐसे प्रत्येक यात्री से 500 रुपये का दंड वसूला गया.

मध्य रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी शिवाजी सुतार ने बताया कि हमने 1 अप्रैल से लेकर 31 may तक अवैध रूप से यात्रा करने वाले कुल 75 हजार 793 यात्रियों के खिलाफ कार्रवाई की है. इस कार्रवाई से रेलवे ने 3 करोड़ 97 लाख रुपये का दंड वसूला है. 14 अप्रैल से ही सामान्य जनता को रेलवे से यात्रा करने की इजाजत नहीं थी, और तभी से सिर्फ उसी यात्री को यात्रा करने की इजाजत है जो अत्यावश्यक सेवा जुड़े हुए हैं. 

साथ ही 17 अप्रैल से 21 मई तक बिना mask के यात्रा करने वाले 1 हजार 61 यात्रियों के खिलाफ करवाई की गई है. रेलवे के आधिकारिक आंकड़ों की मानें तो 808 ऐसे यात्री पकड़े गए जो लोग फर्जी Identity card बनाकर रेलवे में यात्रा कर रहे थे. ऐसे प्रत्येक यात्री से 500 रुपये का दंड वसूला गया. जांच के दौरान यह भी पता चला है कि फर्जी आईकार्ड बनाने वाले ज्यादातर यात्री बीएमसी के नाम का इस्तेमाल करते हैं. 


Monika

By Monika

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *