Nearly 600 patients of black fungus in Delhi, lack of injection is a major problem

Black fungus के इलाज के लिए ज़रूरी Injection की किल्लत पर स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि Injection का कोटा केंद्र सरकार ने तय किया हुआ है. उसके हिसाब से DEHLI को जो कोटा मिल रहा है वो बहुत कम है. दिल्ली में CASE काफी ज्यादा हैं और इस दवाई की बहुत किल्लत है.
कोरोना के साथ अब BLACK FUNGUS का संक्रमण भी बड़ी मुसीबत बन गया है. राजधानी दिल्ली में भी ब्लैक फंगस के मामले बीते कुछ दिनों में तेज़ी से बढ़े हैं. दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने बताया कि इस समय दिल्ली में ब्लैक फंगस से संक्रमित करीब 600 मरीज़ों का इलाज किया जा रहा है जिसमें दिल्ली और दिल्ली के बाहर के मरीज़ भी शामिल हैं.

सत्येन्द्र जैन ने कहा कि DEHLI में 23 मई को करीब 200 केस BLACK FUNGUS के थे. कुल मिलाकर 600 के करीब केस ब्लैक फंगस के अभी तक आ चुके हैं दिल्ली में जिसमें दिल्ली के और दिल्ली के बाहर के लोग भी शामिल हैं. बीते 2 दिन में केस 100 से कम केस प्रतिदिन आये हैं, इससे पहले 200 से ज़्यादा केस थे. बीते 2 दिन में करीब 70 केस प्रतिदिन आये हैं, जिसमें से दो तिहाई केस दिल्ली के हैं और एक तिहाई बाहर के.
BLACK FUNGUS के इलाज के लिए ज़रूरी इंजेक्शन की किल्लत पर स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि इंजेक्शन का कोटा केंद्र सरकार ने तय किया हुआ है. उसके हिसाब से दिल्ली को जो कोटा मिल रहा है वो बहुत कम है. दिल्ली में केस काफी ज्यादा हैं और इस दवाई की बहुत किल्लत है. हम अपील करेंगे कि ज़्यादा से ज़्यादा इंजेक्शन मुहैया करायें. एक मरीज़ को रोज़ करीब 6 इंजेक्शन लगते हैं तो हमें कल 370 इंजेक्शन मिले तो इसमें 50-60 लोगों को ही लग पायेगा. दिल्ली के कई अस्पतालों में प्राइवेट और गवर्नमेंट दोनों में ब्लैक फंगस के मरीजों का इलाज चल रहा है. बस इंजेक्शन की समस्या बहुत बड़ी है क्योंकि ये बिल्कुल भी उपलब्ध नहीं हैं.
सत्येन्द्र जैन ने कहा कि ऐसा नहीं है कि स्टेरॉयड, कोरोना और डायबिटीज सब होना चाहिए. अगर आप डायबिटिक हैं और CORONA है, स्टेरॉयड नहीं भी दिया तो भी आप रिस्क पर हैं. स्टेरॉयड देने से दो चीज़ें होती हैं शुगर लेवल बढ़ जाता है और इम्युनिटी कम होती है. स्टेरॉयड देने से दोनों चीजों का रिस्क बढ़ जाता है. जितने भी केस आ रहे हैं मेरी जानकारी में उन सभी को कोरोना हुआ है. कोरोना के बाद अगर किसी की शुगर ज़्यादा है और स्टेरॉयड नहीं भी दिया है तो भी रिस्क है.
दिल्ली में मोहल्ला क्लीनिक पर विपक्ष द्वारा सवाल खड़े किए जाने पर स्वास्थ्य मन्त्रिने कहा कि Lockdown होने की वजह से निर्माण कार्य रुक गया. बहुत सारे मोहल्ला clinic हैं जिनका काम रुक गया है. 450 मोहल्ला क्लिनिक जो हमारे तैयार हैं वो पूरी तरह से चल रहे हैं. कई लोग कहते हैं कि मोहल्ला क्लिनिक में कितने मरीज़ों को एडमिट किया गया. सबको पता है कि वो ओपीडी है जिसमें एडमिशन नहीं होते. कोरोना काल मे सबसे ज़्यादा मोहल्ला clinic में मरीज़ इलाज के लिए गए क्योंकि ज़्यादातर लोगों को बुखार होता था और वो मोहल्ला क्लिनिक में जाते थे. उन्हें TEST के लिए कहा जाता है. बहुत बड़ी सेवा मोहल्ला क्लिनिक ने की है और अभी भी काम कर रहे हैं. लगभग सारे मोहल्ला क्लिनिक चल रहे हैं 10-15 को छोड़कर इनमे से कई ऐसे भी हैं जहां डॉक्टर खुद संक्रमित हो गए उसकी वजह से थोड़े दिनों के लिये बन्द हो सकता है.
दिल्ली में वैक्सीनेशन प्रोग्राम की ताजा स्तिथि पर बात करते हुए सत्येंद्र जैन ने कहा कि युवाओं के वैक्सीनेशन के जो सेंटर हैं वो बिल्कुल बन्द हो चुके हैं दिल्ली में. वैक्सीन नहीं है, केंद्र सरकार से अपील की है कि वैक्सीन का जल्द से जल्द इंतज़ाम किया जाए. ग्लोबल टेंडर तो मज़ाक सा हो गया है. सारा कंट्रोल केंद्र सरकार का है. भारत मे मैन्युफैक्चरर को अनुमति नहीं है. सिर्फ को-वैक्सीन कोवीशील्ड और स्पुतनिक को अनुमति मिली है भारत मे. 2-3 कंपनियों जैसे फाइजर मोडेरना ने हमसे भी कह दिया कि केंद्र से बात करेंगे, ये आ भी जाएं तो ऑथराइज़्ड तो हैं नहीं. ये ज़िम्मेदारी को दूसरी ओर SHIFT करने वाली बात है कि आपने ग्लोबल टेंडर नहीं दिया तो पहले कैसे दे रहे थे बिना ग्लोबल टेंडर के.
दिल्ली में कोरोना की ताज़ा स्तिथि पर स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि दिल्ली में कल 1568 पॉजिटिव केस आये थे और पॉजिटिविटी दर 2.14% थी. पॉजिटिविटी धीरे-धीरे कम हो रही है और केस की संख्या भी पहले से कम है, लॉकडाउन का असर दिखाई दे रहा है. हॉस्पिटल में बेड्स काफी संख्या में खाली हैं और ICU बेड्स 2900 खालीं हैं 6800 में से. दिल्ली में इस समय लग रहा है कि कोरोना थोड़ा कंट्रोल में है.


Monika

By Monika

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *