UP: Corona report of father did not come even after 5 days of death, son is circling the hospital

योगेंद्र का कहना है कि उनके पिता की मौत के 5 दिन हो चुके हैं. अभी तक उनकी मौत के कारण का पता नहीं चल पाया है. ऐसे में उनके इलाज के दौरान जो निजी अस्पतालों में रकम खर्च हुई इसका क्लेम भी नहीं मिल पा रहा है.

corona की दूसरी लहर में कई लोगों ने अपने अपनों को खो दिया. लोग अपने मृत परिजनों की report के लिए भटक रहे हैं. Allahabad High Court के अधिवक्ता अपने पिता की मौत का कारण पता करने के लिए पिछले 5 दिनों से Hallet Hospital में लगातार चक्कर लगा रहे हैं. 19 मई को उनके पिता गयाप्रसाद को हैलट में भर्ती कराया गया था. उनकी मौत 22 मई को हो गयी. अब उनका बेटा योगेंद्र कुमार हर दिन फतेहपुर से आकर पिता की मौत में कारणों का पता करने की कोशिश कर रहा है.

दरअसल, योगेंद्र कुमार पिता की तबियत 18 मई को बिगड़ने के बाद फतेहपुर से हैलट लेकर आये थे. 19 को भर्ती कराया गया.corona के लक्षण मिलने पर सैंपल लिया गया. सैंपल को जांच के लिए लैब भेजा गया. इस बीच उनका इलाज Emergency में शुरू हो गया था. 20 तारीख़ को गयाप्रसाद को Covid Ward में भर्ती कराया गया. उंन्होने फोन पर योगेंद्र को बताया कि यहां उनका इलाज सही से नहीं हो रहा है
योगेंद्र का कहना है कि उनके पिता की मौत के 5 दिन हो चुके हैं. अभी तक उनकी मौत के कारण का पता नहीं चल पाया है. ऐसे में उनके इलाज के दौरान जो निजी अस्पतालों में रकम खर्च हुई इसका क्लेम भी नहीं मिल पा रहा है. हैलट में जो सैंपल लिया गया था, उसकी भी रिपोर्ट नहीं आई है. ऑनलाइन सैंपल के रिकॉर्ड को देखने पर मिल रहा है. इस पर 22 तारीख से लेकर 27 तारीख तक लगातार हैलट के चक्कर लगा रहे हैं. कोशिश कर रहे हैं कि उनको अपने पिता की मौत को कारणों का पता चल सके.

इस पूरे मसले पर जब हैलट के Principal Doctor आरबी कमल से बात की गई, तो उन्होंने कहा कि मामले को संज्ञान में लेकर वह दिए गए Sample के records निकलवाएंगे. वह यह भी मालूम करेंगे कि यह गलती हुई कैसे. उन्होंने कहा की रिपोर्ट मृतक के परिजनो तक पहुंचाई जाएगी.


Monika

By Monika

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *